Author Topic: दोअाबा के हाथों में अाएगी शिक्षा विभाग की क&#  (Read 3409 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline < Raj >

  • Administrator
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 29724
  • OS:
  • Unknown Unknown
  • Browser:
  • Firefox 57.0 Firefox 57.0
दोअाबा के हाथों में अाएगी शिक्षा विभाग की कमान
 March 2, 2018 Manmeet Singh 

नवतेज सिंह चीमा व परगट सिंह में से एक बन सकते हैं शिक्षा मंत्री
शिक्षा विभाग, चंडीगढ़। पंजाब के मंत्री मंडल में विस्तार होने जा रहा है। मंत्री मंडल में विस्तार होने के बाद मंत्रियों के विभागों में फेरबदल भी तय है। पता चला है कि राणा गुरजीत सिंह को मंत्री मंडल से चलता करने के बाद दोअाबा के खाते से दो विधायकों को मंत्री मंडल में शामिल किया जा रहा है। इस लिस्ट में दो नाम सामने अा रहे हैं। इनमें हैं नवतेज सिंह चीमा तथा परगट सिंह। राजनीति क्षेत्र में चर्चाअों का बाजार गर्मा गया है कि पंजाब में शिक्षा की कमान अरूणा चौधरी से वापिस लेकर दोअाबा के हाथों में दी जाएगी। इससे साफ है कि अब पंजाब के नए शिक्षा मंत्री के रूप में नवतेज सिंह चीमा अथवा परगट सिंह को चांस मिल सकता है। नवतेज सिंह चीमा का नाम शिक्षा मंत्री के रूप में ऊपर है। कांग्रेस खेमे से पता चला है कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह खेल व शिक्षा के विभाग को एक करने का मन बना रही है। अगर एेसा होता है तो शिक्षा विभाग की कमान परगट सिंह के हाथों में अाएगी। क्योंकि परगट सिंह का खेलों से लंबे समय से रिश्ता है अौर वह कांग्रेस में भी खेल मंत्री बनने की शर्त पर शामिल हुए थे। एक बार पहले भी पंजाब में शिक्षा व खेल विभाग पूर्व मंत्री उमराव सिंह के हाथों में रह चुकी है।

खास तो यह भी है कि इस समय परगट सिंह पंजाब हाकी के सचिव हैं लेकिन उन्होंने ने अभी तक जिला व स्टेट स्तर पर हाकी का कोई मैच नहीं करवाया है। मगर, यह सच्चाई है कि उन्होंने पूर्व अकाली-भाजपा सरकार के समय भी खेल मंत्री बनने के लिए ही डायरेक्टर स्पोर्स्ट के पद से त्याग किया था। मगर, पूर्व सरकार ने उनके इस खाब को पूरा नहीं किया था। इसके बाद इसी शर्त पर ही परगट सिंह ने कांग्रेस का दामन थामा था अौर विधायक बने हैं। अब पता चला है कि कांग्रेस सरकार अपने मंत्री मंडल में विस्तार करते हुए परगट सिंह को मंत्री मंडल में शामिल कर सकती है। अगर एेसा होता है अौर कांग्रेस सरकार शिक्षा व खेल विभाग को एक करती है तो इसकी कमान परगट सिंह को मिलेगी।

उधर, अगर कैप्टन सरकार अकाली दल को पछाड़ने की राजनीति खेलते हैं तो शिक्षा विभाग की कमान सुलतानपुर लोधी के विधायक नवतेज सिंह चीमा को मिलेगी। क्योंकि अकाली दल ने सुलतानपुर लोधी से ही बीबी उपिन्दर जीत कौर मंत्री रही हैं। अकाली-भाजपा को नीचा दिखाने के लिए ही कैप्टन स्थानीय निकाय विभाग की कमान नवजोत सिंह सिद्धू को सौंपी थी। ध्यान रहे कि अकाली-भाजपा ने भी अमृतसर से ही अनिल जोशी को स्थानीय निकाय विभाग की कमान सौंपी थी अौर उसके बाद कांग्रेस ने भी अमृतसर के विधायक पर विश्वास दिखाया। अब इसी इतिहास को दोहराया जाता है तो शिक्षा की कमान नवतेज सिंह के हाथों में जा सकती है।

Offline < Raj >

  • Administrator
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 29724
  • OS:
  • Unknown Unknown
  • Browser:
  • Firefox 57.0 Firefox 57.0
अरूणा चौधरी सहित कई मौजूदा मंत्रियों के विभागों में भी होगा फेरबदल
शिक्षा फोकस, चंडीगढ़। इसी सप्ताह में कैप्टन अमरिन्दर सिंह अपने मंत्री मंडल में विस्तार करने जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि इस कड़ी के तहत जहां कई नए चेहरों को मंत्री मंडल की कुर्सी मिलने के साथ नए विभागों की कमान मिलेगी वहीं मौजूदा मंत्रियों में से कईयों के विभाग बदलने की चर्चाएं चल रही हैं। सबसे ऊपर नाम शिक्षा मंत्री अरूणा चौधरी का है। राजनीति से जुड़े लोग बताते हैं कि शिक्षा विभाग की कमान किसी नए चेहरे के हाथों में जा सकती है। इस बात की पुष्टि खुद अरूणा चौधरी भी पिछले दिनों जालंधर में मीडियो को दिए गए बयान में कर चुकी हैं। वह कह चुकी हैं कि उनके पास कुर्सी जितनी भी देर रहेगी, उतने समय को शिक्षा के क्षेत्र में गोल्डन टाईम के रूप में देखा जाएगा।

कांग्रेस के जानकारों की मानें तो मंत्री मंडल में विस्तार को लेकर कांग्रेस प्रधान से मुलाकात कर सकते हैं। यह मुलाकात शनिवार (3 मार्च) को हो सकती है। मौजूदा समय के दौरान राहुल गांधी करनाटका के दौरे पर हैं। अगर, वह वापिस अा जाते हैं तो यह मुलाकात होना तय है। इस बैठक में पंजाब कांग्रेस प्रधान सुनील जाखड़ तथा पंजाब कांग्रेस मामलों की ईंचार्ज अाशा कुमारी भी कैप्टन अमरिन्दर सिंह के साथ पंजाब के मंत्री मंडल की बैठक में शामिल होंगे। जानकार बताते हैं कि मंत्री मंडल में किन नेताअों को स्थान मिलेगा, इसकी चर्चा हो चुकी है। बस इंतजार है कि पंजाब कांग्रेस प्रधान राहुल गांधी इस फेरबदल पर मोहर लगा दें। ध्यान रहे कि नियमों के मुताबिक पंजाब की कैबिनेट में मुख्यमंत्री सहित 18 विधायकों को मंत्री का दर्जा दिया जा सकता है। पहले गेड़ में कैप्टन ने 9 मंत्री को अपने मंत्री मंडल में शामिल किया था मगर, राणा गुरजीत के पद छोड़ने के बाद अब कैबिनेट में 8 मंत्री ही बचे हैं। खास बात है कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह खुद 40 से अधिक विभागों को देख रहे हैं।

जानकारों की मानें तो फेरबदल की लिस्ट में पंजाब की शिक्षा विभाग की कमान नए चेहरे के हाथों जा सकती हैं। क्योंकि कैप्टन की निगाहों में शिक्षा मंत्री अरूणा चौधरी अपने विभाग को अच्छे ढंग से संभाल नहीं पा रही हैं। राजनीति में चर्चाएं हैं कि राज्य में सरकार के खिलाफ प्रति दिन लगने वाले धरनों में शिक्षा विभाग सबसे अागे है, जिससे पंजाब सरकार की किरकिरी हो रही है। गौर हो कि शिक्षा विभाग की कमान संभालने से लेकर अभी तक शिक्षा विभाग चर्चा में हैं। इसलिए कैप्टन की निगाहों में शिक्षा मंत्री शिक्षा को नई मंजि

Rajnewinfo